Bombay stock Exchange क्या है । Brief History of Bombay Stock Exchange.


आज हम बात करेंगे India Stock Market की शुरुआत कब और कैसे हुई और जिसमे सबसे पुराना stock exchange यानी BSE क्या है और history of bombay stock exchange.

हम सभी जानते हैं कि भारत में दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज है,
1. BSE   -  Bombay stock Exchange  
2. NSE  – National Stock Exchange 

तो आज हम बात करेगे BSE की शुरुआत 
और Development  की ।

History of Bombay Stock Exchange

नोट - हमारे द्वारा दी गयी जानकारी सिर्फ और सिर्फ education purpose के लिये है । अगर आप share market मे निवेश करने जा रहे है या करना चाहते है तो किसी investor या broker की सलाह ज़रूर ले ।

BSE- History of Bombay Stock Exchange पर एक नज़र !

 BSE  एशिया का सबसे पहला Stock Exchange है जिसकी स्थापना 1875 में प्रेमचंद रॉयचंद जी ने की थी (इनको कॉटन किंग के रुप मे भी पहचाना जाता है india मे ) और यह देश का पहला स्टॉक एक्सचेंज है और सबसे पुराना stock exchange है जिसको स्थाई रूप से  Securities Contract Agreement Act 1956 के तहत इसकी स्थापना की गयी ।

Bse देश का सबसे पहला और world का दूसरा stock exchange है जिसको ISO 9001:2000 certificate प्राप्त है ।
Bse अपनी service के साथ -साथ कंपनियों को CDSL यानी CENTRAL DEPOSITORY SERVICES LTD. के द्वारा Deposit service भी provide करती है ।
CDSL मे ही खरीदे हुए Shares dematerialized form मे रखे जाते है ।
Bse sensex आज एक economy benchmark के रुप मे काम करता है और उससे देश की economy का अनुमान लगाया जाता है । BSE sensex अगर आगे बढ़ता है तो मतलब देश की अर्थव्यवस्था भी आगे बढ़ रही है ।


History of Bombay Stock Exchange


Broker दलाल स्ट्रीट और BSE की स्थापना ।


BSE का  जन्म 1850 में एक बरगद के पेड़ के नीचे मुंबई में हुआ जहां आज Horniman Circle Garden है ,
वही बरगद के पेड़ के नीचे कुछ लोग इकठ्ठे होकर शेयरों का सौदा करते थे जैसे - जैसे लोगो की संख्या बड़ी तो ये लोग रोज स्ट्रीट और महात्मा गांधी रोड के जंक्शन पर बरगद के पेड़ के नीचे जुटने  लगे ।
लेकिन लोगो की संख्या धीरे -धीरे बढ़ती जा रही थी और फ़िर जैसे -जैसे लोग बढ़ते गये तो नयी जगह की तलाश शुरू हो गयी और अंत में 1874 में एक स्थायी जगह ढूंढा जो बाद में दलाल स्ट्रीट के नाम से प्रसिद्ध हो  गया ।
 और आज दलाल स्ट्रीट पर ही BSE tower है जो कि लगभग 118 मीटर ऊँचा है । ये tower 129 मंजिलों की एक building है । इसके आर्किटेक्ट चंद्रकांत पटेल थे और इस बिल्डिंग के बनने की शुरुआत 1970 में हुई और 1980 में यह कंप्लीट हो गयी ,जब यह बिल्डिंग बनी तो उस समय ये भारत की सबसे बड़ी बिल्डिंग थी जिसे L&T company ने बनाया था ।
Bse का पहला नाम The Native stock broker association था और बाद मे इसका नाम bombay stock exchange कर दिया गया । history of bombay stock exchange.


एक brief नज़र History of Bombay Stock Exchange के ऊपर ।


31 अगस्त 1957- भारतीय संविधान के securities contract agreement act के अंतर्गत BSE को देश के पहले stock exchange के रूप में मान्यता ।

9 जुलाई 1875-  The Native stock broker association की स्थापना करना ।

2 जनवरी 1986-  देश के पहले stock exchange index यानी S & P BSE Sensex की स्थापना करना ।

25 जुलाई 1990-  BSE SENSEX 1000 के    ऊपर पंहुचा ।

15 मई 1992 -  stocK exchange के विकास और नियंत्रण के लिए capital issue control act 1947 को ख़त्म करके  SEBI की  स्थापना ।

14 मार्च 1995 -  BSE online trading की शुरुआत ।

22 मार्च 1999 - CDSL की शुरआत ।

11 अक्टूबर 1999 - BSE पहली बार 5000 के    ऊपर ।

9 जुलाई 2000 - equity derivative में option और future trading  की शुरुआत ।

19 मई 2005 - पहली बार SENSEX 10,000 के पार  पंहुचा ।

3 फरवरी 2017- BSE, भारत का पहला listed stock exchange बना ।

सुबह Bse 9:00 am पर खुलता है जिसे pre open market कहते है 9:15 से लेकर 3:30 बजे तक आप शेयर खरीद सकते हो या बेच सकते हो अर्थात इनकी trading कर सकते हो और बाद मे 3:30 से लेकर 4:00 बजे तक पोज़िशन ट्रेडिंग होता है जिसमे क्लोसिंग वगेरह होता है ।


Bse की official website है 
www.bseindia.com यहाँ पर आपको काफी सारी चीजे detail मे मिल जायेगी ।

ये मेरी कोशिश थी History of Bombay Stock Exchange को समझाने की ,पसंद आये तो अपने दोस्तो के साथ ज़रूर शेयर करे ।