Three Essential Factors that Determine your Attitude.


मै आपसे कुछ सवाल पूछना चाहता हूँ, हम नजरिये के साथ ही जन्म लेते है या उसे बड़ा होंने पर विकसित करते है ? हमारा नज़रिया किन चीजो से बनता है ! क्या हम अपने नजरिए को बदल सकते है ? क्योंकि हम चाहे जिस भी filed मे हो ,कामयाबी की बुनियाद हमारा नज़रिया ही है ।

                 
चलिये मै ही आपको बता देता हूँ कि हमारे नजरिये का ज्यादातर हिस्सा हमारे जिंदगी के शुरआती सालो मे बन जाता है । ये बात बिल्कुल सच है कि हम कुछ खासियतो से पैदा होते है लेकिन बाद मे जो हमारा नज़रिया बनता है ,उसे खास तौर पर ये तीन चीजे(Factor) तय करती है ।

  1. 1. महौल ( Environment )
  2. 2. तज़रबा ( Experience )
  3. 3. शिक्षा ( Education )

इन्हे हम नजरिये (attitude ) के तीन E,s कह सकते है क्योंकि ये तीनो ही E letter से शुरू होते है । इन तीनो पर बारीकी से नज़र डालते है ।

1. महौल (Environment )

हमारे महौल मे कई चीजे शामिल होती है ,जिससे हमारा attitude बनता है । मैने कुछ लिस्ट तैयार की है । आइये उनके ऊपर एक नज़र डालते है ।

  1. घर - अच्छा या बुरा महौल 
  2. स्कूल - साथियों का दबाव
  3. काम - मददगार या ज़रूरत से ज्यादा नुक्ताचीनी करने वाले लोग ।
  4. मीडिया - t.v, newspaper , internet ,
  5. Culture background 
  6. Religion background 
  7. Belief and traditions 
  8. Social environment 
  9. Political environment 

ऊपर दी गयी यह लिस्ट ही मिल कर हमारा नज़रिया तय करती है । हम जिस तरह के महौल मे रहते है उसी तरह से हमारा नज़रिया बन जाता है । इसलिये ये बात बहुत ही ज्यादा महत्व रखती है कि हमेशा अच्छे महौल मे रहे , ऊन लोगो से दुर ही रहे जिनके साथ रहने से आपको अपना नज़रिया गिरता हुआ नज़र आता है । कुछ समय निकाल कर इस बात पर ज़रूर गौर कीजिये कि हमारा माहौल हम पर कैसे असर डालता है और हम जैसा महौल बनाते है वह दूसरो पर कैसे असर डालता है ।

2. तज़रबा (Experience )

ये बात बिल्कुल सही है कि 
"success comes from experience and experience comes from bad experiences." 
अलग -अलग लोगो से मिले experience के मुताबिक हमारा व्यवहार भी बदल जाता है । अगर किसी इंसान के साथ हमे अच्छा अनुभव मिलता है तो उसके बारे मे हम अच्छा feel करते है और उनके लिये हमारा नज़रिया भी अच्छा बन जाता है । पर बुरा अनुभव मिलने पर हम सावधान हो जाते है और उस इंसान से दुर होने लगते है । experience हमारी जिंदगी का reference point बन जाती है और हम उस experience से जो सीखते है उसे अपनी जिंदगी मे उतारते है । इसलिये यहाँ पर ये बात भी बहुत ध्यान देने वाली है कि आप जिस भी इंसान से मिलो उसे एक अच्छा अनुभव दो ताकि वो इंसान आपके प्रति एक अच्छा नज़रिया बना सके ।

3. शिक्षा (Education )

"Education is the most powerful key,which is enable to changed the world."
अगर शिक्षा हमारी दुनिया को बदल सकती है तो क्या हमारा नज़रिया नही बदल सकती ! सोचने वाली बात है ये ? इसलिये ये हमारे ऊपर Depend करता है कि किस तरह की शिक्षा हम ग्रहण करते है । शिक्षा Formal और Informal दोनो तरह की होती है । आजकल हमलोग information के सागर मे गोते लगा रहे है लेकिन ज्ञान और समझदारी का अकाल पड़ा हुआ है । ज्ञान को सही और योजनाबद्ध ढंग से समझदारी मे बदला जा सकता है और समझदारी ही हमे कामयाबी दिलाती है । ये ज़रूरी नही कि आप शिक्षा लेने के लिये किसी institute मे जाये । आप किसी भी समय शिक्षा ग्रहण कर सकते है । शिक्षा का संबन्ध institute और exams से नही है । इसका संबन्ध हमे ज़रूरी information provide करना और एक समझदार इंसान बनाना है । इसलिये हमारी शिक्षा ऐसी होनी चाहिये ,जो हमे केवल रोज़ी रोटी कमाना नही ,बल्कि जीने का तरीका भी सिखाये । 
harvard university के एक अध्यन मे ये पाया गया कि 85% मौकों पर किसी इंसान को नौकरी और तरक्की उसके नजरिये की वजह से मिलती है ,जबकि आंकड़ों की वजह से तरक्की केवल 15% मौकों पर ही मिलती है । कितने ताज्जुब की बात है कि कामयाबी दिलाने मे शिक्षा का सिर्फ 15% योगदान होता है ,पर हम अपनी सारी रकम इन्ही चीजो पर खर्च कर देते है । इसलिये एक अच्छा नज़रिया ज़रूर विकसित करे

हम ने अपनी काफी posts मे ये देखा है कि लोग हमारे articles read तो करते है, लेकिन comment बिलकुल nhi करते, अगर आप भी उन लोगो मे से एक है तो please comments जरूर करिये, आपका एक valuable comment हमें नये - नये articles लिखने की प्रेरणा देता है !